Friday, April 4, 2014

अक्स

आज अचानक ऐसा लगने लगा जैसे मेरी बेटी मुझसे कुछ कह रही है-   माँ तू मुझमें

ऐ माँ तू मुझमे
खुद को देख ले..

मेरी बेवकूफियों  पर             
तू फिर से
नादाँ हो ले

मेरी बढ़ती उम्र के साथ
तू फिर से
जवाँ हो ले

मैं आत्मा हूँ तेरी
तू परमात्मा हो ले..

(रचना त्रिपाठी)

 

7 comments:

  1. माँ बेटी का यह संवाद कितना सुन्दर है ,सीधे सादे शब्दों में दिल तक जाती बात

    ReplyDelete
  2. बेटियां वह आईना है जिसमे माँ का वजूद छिपा है , उसका बचपन , युवावस्था , सपने सब !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, शनिवार, दिनांक :- 05/04/2014 को "कभी उफ़ नहीं की
    " :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1573
    पर.

    ReplyDelete
  4. भावपूर्ण प्रस्तुति| बेटी माँ का ही अक्स अधिकतर होती है |

    ReplyDelete
  5. आपने पुत्री को माँ की आत्मा कहा है -बिलकुल सच है यह !

    ReplyDelete
  6. सुंदर भाव पूर्ण रचना.

    ReplyDelete
  7. भाव पूर्ण साधो ...

    ReplyDelete

आपकी शालीन और रचनात्मक प्रतिक्रिया हमारे लिए पथप्रदर्शक का काम करेगी। अग्रिम धन्यवाद।